Karwa Chauth 2018 latest Update

Karwa Chauth 2018 latest Update

Festivle Karwa chauth

Karwa Chauth 2018 latest Update :

करवा चौथ 2018 :

आज हम बात करेंगे एक ऐसे Festival के बारे में जो एक सुहागन स्त्री के लिए बहुत खास होता है तो दोस्तों इस त्यौहार का नाम है करवा चौथ्। दोस्तों करवा चौथ Hindus का खास त्यौहार माना जाता है और यह भारत के Punjab , Uttar Pradesh , Hariyana , Madhya Pradesh और Rajasthan में जायदा मनाया जाता है। तो चलिये आज में आपको इस Festival के बारे में कुछ ऐसी खास बाते बताऊंगा जो आप जानना चाहेँगे।

करवा चौथ Festival कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को मनाया जाता है । यह त्यौहार स्त्रिया मनाती है। इस दिन स्त्रिया सुबह से व्रत रखती है और रात में चाँद के दर्शन करने के बाद वह व्रत पूरा करती है।

जानिए केसे पूरा होता है व्रत-
चाँद के दर्शन करने के बाद ही सुहागनि स्त्रियों का व्रत पूरा होता है।

जनिए करवा चौथ का एक और नाम –
क्या आप सब जानते है करवा चौथ का एक और नाम भी है जो है करक चतुर्थी। करक चतुर्थी करवा चौथ का दूसरा नाम कहा जाता है।

जनीये करवा चोथ का व्रत कब रखना चाहिए –
सभी स्त्रिया करवाचौथ का व्रत बड़ी श्रद्धा और उत्साह के साथ रखती है और उसे पूरा भी करती है। शास्त्रो के मुताबिक महिलाओं को यह व्रत कार्तिक मास के कृष्णपक्ष की चन्द्रोदय व्यापिनी चतुर्थी वाले दिन रखना चहिये।

जनीये करवा चौथ के दिन किसकी पूजा की जाती है –
करवा चौथ के दिन भालचन्र्द गणेश जी की पूजा की जाती है।

जनीये करवा चौथ का व्रत रखने की सही विधि –
इस तरह व्रत करने से आपको 100% फल मिलेंगा
* सूर्योदय से पहले स्नान करके व्रत रखने का संकल्प लें।
* फिर मिठाई , फल, सेंवई और पूड़ी की सरगी ग्रहण कर व्रत शुरू करें।
* संपूर्ण शिव परिवार और श्रीकृष्ण की स्थापना करें।
* गणेश जी को पीले फूलों की माला, लड्डू और केले चढ़ाएं।

जनीये 2018 में करवा चौथ की Date –
इस साल 2018 में करवा चौथ 27-October-2018 को मनाया जाएग। सभी महिलाएं इस दिन अपने पति की लम्बी उम्र के लिए व्रत रखेगी।

जनीये करवा चौथ कब मनाया जाता है-
करवा चौथ Festival कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को मनाया जाता है । भारत के Punjab, Uttar Pradesh, Hariyana, Madhya Pradesh और Rajesthan की महिलाएं इस त्यौहार को बहुत ही अच्छे से मनाती है।

जनीये कब शुरू होता है करवा चौथ का व्रत –
करवाचौथ का व्रत सिर्फ सोभाग्य स्त्रियों को ही प्राप्त होता है। करवा चौथ का व्रत सुबह सूर्योदय के आने से पहले शुरू किया जाता है सभी महिलाएं सुबह जल्दी तैयार होके पूजा करती है और अपना व्रत शुरू करती है और रात को चन्द्रमा के दर्शन के बाद ही सभी महिलाएं व्रत पूरा करती है। इस बिच स्त्रियों को भोजन खाने की भी अनुमति नहीं होती है।

यह त्यौहार सभी महिलाओ के लिए बहुत खास है। और सभी महिलाएं इस त्यौहार को पूरी श्रद्धा से मनाती है।दोस्तों जब तक महिलाएं चन्द्रमा का दर्शन न कर ले तब तक वह भोजन भी नहीं करती है । चंद्रमा के दर्शन के बाद ही स्त्रियों को भोजन करने की अनुमति होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *