Press "Enter" to skip to content

“Indian Navy Day” 4-Dec-2018 Sampurn Jankari

“Indian Navy Day” 4-Dec-2018 Sampurn Jankari :

“Indian Navy Day” क्यों मनाते है ?

1971 के युद्ध के दौरान भारतीय नौसेना द्वारा किए गए साहस और दृढ़ संकल्प के लिए भारतीय नौसेना की उपलब्धि मनाने और श्रद्धांजलि के रूप में 4 दिसंबर को नौसेना दिवस के रूप में मनाया जाता है। नौसेना समुद्री सीमाओं को सुरक्षित करने के साथ-साथ संयुक्त अभ्यास, मानवतावादी मिशन और आपदा राहत के माध्यम से अंतर्राष्ट्रीय संबंधों के सुधार के लिए एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

“Indian Navy Day” का इतिहास ?

4 दिसंबर, 1971 को, भारतीय नौसेना ने ऑपरेशन ट्राइडेंट में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, जो पाकिस्तान नौसेना मुख्यालय पर हमला था और पाकिस्तान नेवल शिप गाज़ी को डूब गया था। ऑपरेशन के दौरान, इस क्षेत्र में पहली बार एंटी-शिप मिसाइलों का इस्तेमाल किया गया था। हमले ने 500 से ज्यादा पाकिस्तानी नौसेना के कर्मियों की हत्या कर दी और चार पाकिस्तानी जहाजों को नष्ट कर दिया।तीन भारतीय नौसेना मिसाइल नौकाएं – आईएनएस निरघाट, आईएनएस वीर और आईएनएस निपाट – ने ऑपरेशन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

“Indian Navy Day” कैसे मानते है ?

यह दिन भारतीय नौसेना की तकनीकी प्रगति और भारत की समुद्री उपलब्धियों को प्रदर्शित करके मनाया जाता है। 2017 में, भारतीय नौसेना के पुरस्कार विजेता नवाचारों को नौसेना हाउस, नई दिल्ली में ‘इनोवेशन मंडप’ में प्रदर्शित किया गया। प्रदर्शन पर आईएनएस कुथर और आईएनएस विक्रमादित्य द्वारा नवाचार हैं जिन्हें क्रमशः ‘ऑपरेशन यूनिट्स’ श्रेणी में विजेता और धावक के रूप में चुना गया है। मुंबई में गेटवे ऑफ इंडिया में, भारतीय नौसेना ने बीटिंग रिट्रीट समारोह का प्रदर्शन किया और बड़े पैमाने पर भीड़ को उखाड़ फेंकने के प्रदर्शन का शानदार प्रदर्शन किया।

“Indian Navy Day” के वीडियो :

[embedyt] https://www.youtube.com/watch?v=2oxvFtD0-4A[/embedyt] [embedyt] https://www.youtube.com/watch?v=1qk6bXrlbA8[/embedyt] [embedyt] https://www.youtube.com/watch?v=9qb_6yaLYBI[/embedyt]

“Indian Navy Day” Images :

 

“Indian Navy Day” Status :

मैं तिरंगा फहराकर वापस आऊंगा या फिर तिरंगे में लिपटकर आऊंगा, लेकिन मैं वापस अवश्य आऊंगा।”
– कैप्टन विक्रम बत्रा, परम वीर चक्र

आजादी की कभी शाम नहीं होने देंगे
शहीदों की कुर्बानी बदनाम नहीं होने देंगे
बची हो जो एक बूंद भी लहू की
तब तक भारत माता का आँचल नीलाम नहीं होने देंगे

लिख रहा हूं मैं अजांम जिसका कल आगाज आयेगा,
मेरे लहू का हर एक कतरा इकंलाब लाऐगा
मैं रहूँ या ना रहूँ पर ये वादा है तुमसे मेरा कि,
मेरे बाद वतन पर मरने वालों का सैलाब आयेगा

मेरा “हिंदुस्तान” महान था,
महान है और महान रहेगा,
होगा हौसला बुलंद सब के ड़ों में बुलंद
तो एक दिन पाक भी जय हिन्द कहेगा.

न पूछो ज़माने को,
क्या हमारी कहानी है,
हमारी पहचान तो सिर्फ ये है,
की हम सिर्फ हिन्दुस्तानी हैं ……!!!

खुशनसीब हैं वो जो वतन पर मिट जाते हैं,
मरकर भी वो लोग अमर हो जाते हैं,
करता हूँ उन्हें सलाम ए वतन पे मिटने वालों,
तुम्हारी हर साँस में तिरंगे का नसीब बसता है.

Indian Navy Day” की कविता :

 

Source Credit - https://www.poemhunter.com/poem/4-hindi/
आज मुझे याद आते हैं
विशाखापत्तनम में बिताये वो दुर्लभ दिन
इंडियन नेवी की वो अविस्मरणीय मेजबानी
ईस्टर्न नेवल कमांड का वो हेडक्वार्टर
जहाँ हुयी थी विलक्षण मुलाक़ात
INS राजपूत जैसे विध्वंसक युद्धपोत से
INS सिन्धुवीर सी पनडुब्बी से
जो समुद्र की गहराई में हफ़्तों हफ़्तों रह सकती है
और समुद्र की लहरों का हाथ थामे नौसैनिक
करते हैं अभिरक्षा समुद्री सीमाओं की
24x7 हर समय बिना रुके और बिना थके

कैसे भूलेगा मुझको वह ड्राई डॉक
जहाँ समय समय पर युद्धपोत
अपनी दक्षता बनाये रखने के लिए
देखभाल व साजसंवार कायम रखने को
रुकते है या आया जाया करते है
वह संस्थान जहाँ कंप्यूटर नियंत्रित
तारपीडो व गाइडेड मिसाइल प्रणालियों से
अधिकारी व कर्मी सारे परिचित होते हैं
और जहाँ नेवी की ताकत घातक
तीक्ष्ण और प्रभावी रहती है

नेवी के सभी संस्थान
भले युद्धपोत के रूप में समुद्र की सतह पर हो
अथवा जमीन पर उन सबमे है एकरूपता
सबके सब हैं INS (यानी इंडियन नेवल शिप)
क्योंकि नौसैनिक कभी नहीं भूलते यह कि
उनका असली घर समुद्र है
कुछ दिन यदि वह स्थल के किसी संस्थान में हों
तो भी यह वे याद रखें कि
समुद्र उन्हें पुकारता और दुलारता है

हमारी नौसेना हमारी समुद्री सीमाओं की
रक्षा को तत्पर रहती है सदा सर्वदा
थल सेना व वायु सेना के साथ नौसेना
सुदृढ़ रखती है सुरक्षा तंत्र हमारा
अजेय है दुर्भेद्य है और परमवीर है

भारतीय नौसेना के इक इक कर्मी को
और अधिकारी को और उनके पौरुष को
हम सब भारतवासी आज
नौसेना दिवस के शुभ अवसर पर
कृतज्ञतापूर्वक याद करते है
इस अवसर पर हम हृदय से यह कहते हैं कि
“हमें आप पर गर्व है”

 

 

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *